जानिए उत्तराखण्ड में क्यों मनाई जाती है पांच तरह की दीपावली।

610
2
SHARE
Five types of diwali in uttarakhand-teamdevasthali

जहां पूरी दुनिया कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली का त्यौहार हर्षोल्लास से मनाती है वही पहाड़ों में परंपराएं एक अलग रूप ले लेती हैं हमारे पहाड़ों में दीपावली केवल 1 दिन का त्यौहार नहीं बल्कि पूरे महीने भर का त्यौहार है आइए जानते हैं कैसे प्यारे-प्यारे सुदूरवर्ती उत्तराखंड के पहाड़ों में विभिन्न प्रकार की दीपावली जिसे स्थानीय भाषा में बगवाल कहा जाता है मनाई जाती है अलग-अलग क्षेत्र की अलग-अलग दीपावली और अलग-अलग किस्से कहानी, रीति रिवाज बड़े ही रोचक हैं। इन सभी त्योहारों से हमें पहाड़ के समाज का मेल मिलाप व संस्कृति का पता चलता है।

Read This Also : इगास बग्वाल – क्यों मनाई जाती है इगास बग्वाल?

मंगसीर बग्वाल-उत्तरकाशी-उत्तराखण्ड-teamdevasthali
मंगसीर बग्वाल के दिन पारंपरिक भेष भाषा में उत्तरकाशी की महिलाएं ।

असल में हमारे लोक गीतों में 12 बगवाल का जिक्र है जैसे “12 ऐन बगवाल माधो सिंह, 16 ऐन शराद माधो सिंह।” आज कालांतर में 5 बगवाल है। सबसे पहले राज बगवाल जो टिहरी राजशाही से जुड़े लोग धनतेरस के दिन मानते है। उसके बाद काण्सि बगवाल जो छोटी दिवाली, जेठी बगवाल जो बड़ी बगवाल, ईगास (एकादशी) बगवाल जो द्वापर युग में पांडवो से संबंधित है कहते हैं जब कार्तिक मास की अमावस्या को पूरी दुनिया महालक्ष्मी की पूजा करती है पहाड़ के लोग एकादशी के दिन भगवान विष्णु को याद करते हैं ,स्थानीय लोग इसे रिक बगवाल भी कहते है जो टिहरी राजशाही के वीर लोधी रिखोला सेनापति के नाम पर रखा गया है।

माधो सिंह भण्डारी-उत्तराखण्ड के इतिहास का पराक्रमी योद्धा-teamdevasthali
माधो सिंह भण्डारी-उत्तराखण्ड के इतिहास का पराक्रमी योद्धा ।इगास-बग्वाल-teamdevasthaliइगास-बग्वाल की धूम ।

एकादशी के दिन भगवान विष्णु को समर्पित है, उसके बाद मंगसीर बगवाल जो स्थानीय देवी देवताओं जैसे टिहरी में कैलापीर देवता, जौनसार में महासु देवता, उत्तरकाशी में कंडार देवता और साथ साथ टिहरी राजशाही के वीर सेनापति माधो सिंह भंडारी जी को भी समर्पित है इस दिवाली को रवाई में देवलांग और जौनसार में बूढ़ी दिवाली भी बोलते है।

देवलांग बग्वाल-teamdevasthali
देवलांग बग्वाल ।

Read This Also : jwalpa-devi-real-story-ज्वालपा-देवी-

कहते हैं कि पहाड़ के लोग कार्तिक मास की अमावस्या को पढ़ने वाली दिवाली इसलिए नहीं मनाते थे क्योंकि पहाड़ों में खेतों का काम देर से पूरा होता था और पहाड़ों की फसल की कटाई एक महीने बाद तक पूरी होती थी इसलिए वह देर में दिवाली मनाते थे कई मान्यताएं यह भी है कि पहाड़ के लोगों को 11 11 दिन या 1 महीने बाद पता चला कि श्री राम अयोध्या को लौट चुके हैं।

RESEARCH AND WRITTEN BY

SHIVANK THAPLIYAL

Shivank thapliyal-founder-of-team-devasthali
Shivank Thapliyal

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY